भारतीय संस्कृति की यह परम्परा है कि यहाँ आशीर्वाद स्वरुप आयुष्मान भवः या चिरंजीवी भवः बोलकर लोगों के सकुशल और दीर्घजीवी होने की कामना की जाती है| आयुष्मान भारत योजना का शुभारम्भ भी भारतीयों को सकुशल और दीर्घजीवी होने की कामना को हकीकत में बदलने का प्रयास है |

किसी भी गरीब परिवार में अगर कोई व्यक्ति गंभीर बीमारी से पीड़ित होता है तो उसका पूरा परिवार उस बिमारी में हुए खर्चे के बोझ से दबता जाता है | एक गरीब परिवार और भी गरीब हो जाता है और कई बार तो इलाज के आभाव में छोटी छोटी बीमारियां भी बड़ी और असाध्य हो जाती हैं | आयुष्मान भारत योजना, भारत की लगभग ४०% आबादी को कवरेज प्रदान करती है| इस समस्या को हल करने  हमारी सरकार ने नयी सकारात्मक पहल की है |

इस योजना का लाभ प्रत्येक लाभार्थी को मिले , इसके लिए योजना के प्रति लोगों में जागरूकता फैलाने के लिए D.M. Kaushambi , Shri Manish Kumar Verma जी ने एक अनूठा तरीका निकाला है | कौशाम्बी जिले में जितने भी ग्राम चौपाल आयोजित किए जा रहे हैं उन सभी चौपालों के दौरान लाभार्थियों का गोल्डन कार्ड बनाया जा रहा है  और योजना के लाभार्थियों को योजना के बारे में संपूर्ण जानकारी दी जा रही है।